बंद करे

बुद्ध मंदिर, मैनपाट

मैनपाट अम्बिकापुर से 75 किलोमीटर दुरी पर है इसे छत्तीसगढ का शिमला कहा जाता है। मैंनपाट विन्ध पर्वत माला पर स्थित है जिसकी समुद्र सतह से ऊंचाई 3781 फीट है इसकी लम्बाई 28 किलोमीटर और चौडाई 10 से 13 किलोमीटर है अम्बिकापुर से मैंनपाट जाने के लिए दो रास्ते है पहला रास्ता अम्बिकापुर-सीतापुर रोड से होकर जाता और दुसरा ग्राम दरिमा होते हुए मैंनपाट तक जाता है। प्राकृतिक सम्पदा से भरपुर यह एक सुन्दर स्थान है। यहां सरभंजा जल प्रपात, टाईगर प्वांइट तथा मछली प्वांइट प्रमुख दर्शनीय स्थल हैं। मैनपाट से ही रिहन्द एवं मांड नदी का उदगम हुआ है।.

इसे छत्तीसगढ का तिब्बत भी कहा जाता हैं। यहां तिब्बती लोगों का जीवन एवं बौध मंदिर आकर्षण का केन्द्र है। यहां पर एक सैनिक स्कूल भी प्रस्तावित है। यह कालीन और पामेरियन कुत्तो के लिये प्रसिद्ध है।

फोटो गैलरी

  • टाइगर प्वाइंट
    टाइगर प्वाइंट झरना
  • टाइगर प्वाइंट झरना
    टाइगर प्वाइंट
  • मैनपाट तिब्बत मंदिर प्रवेश द्वार
    तिब्बत मंदिर गेट

कैसे पहुंचें:

बाय एयर

दरिमा हवाई अड्डा, अंबिकापुर |

ट्रेन द्वारा

नजदीकी रेलवे स्टेशन अंबिकापुर है वहा से बस अड्डे जा के दूसरी बस या फिर टैक्सी

सड़क के द्वारा

नजदीकी बस अड्डा अंबिकापुर है वहा से दूसरी बस या फिर टैक्सी